sukh aur dukh,

Sukh aur Dukh

Sukh aur Dukh- 

Jis Prkar andheri raat ke bad subah ka hona nishchit hota hai

theek usi parkaar dukh ke baad sukh ka ana bhee nischit hota hai

 

सुख और दुःख

जिस प्रकार अन्धेरी रात के बाद सुबह का होना निश्चित होता है

ठीक उसी प्रकार दुःख के बाद सुख का आना भी निश्चित होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *